Monday , June 17 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / असम में आग का भयानक मंजर, 2 की मौत, बुझाने में लग सकते हैं 4 हफ्ते

असम में आग का भयानक मंजर, 2 की मौत, बुझाने में लग सकते हैं 4 हफ्ते

असम के तिनसुकिया में सरकारी गैस कंपनी ‘ऑयल इंडिया’ के बागजान कुएं में लगी भीषण आग पर अब तक काबू नहीं पाया जा सका है। वहीं इस हादसे में दो दमकलकर्मियों की मौत हो गई है। इनमें से एक की पहचान असम के पूर्व फुटबॉलर दुरलोव गोगोई के रूप में हुई है। गोगोई अंडर-19 और अंडर-21 कैटिगरी के अंतर्गत कई टूर्नामेंट में असम को रिप्रजेंट कर चुके हैं। कहा जा रहा है कि आग इतनी भीषण कि इसे बुझाने में चार हफ्ते यानी एक महीने का वक्त लग सकता है।

‘ऑयल इंडिया’ के प्रवक्ता त्रिदिव हजारिका ने बताया कि आग लगने के बाद दो दमकलकर्मी लापता हो गए थे। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है। एनडीआरएफ के एक दल ने बुधवार सुबह दोनों के शव बरामद किए। अधिकारी ने बताया कि दोनों की पहचान दुरलोव गोगोई और टीकेश्वर गोहेन के रूप में की गई है और दोनों कंपनी के अग्निशमन विभाग में सहायक ऑपरेटर हैं। इस आग को बुझाने के प्रयास में ओएनजीसी का एक दमकलकर्मी मामूली रूप से झुलस गया था।

15 दिन से हो रहा है गैस का रिसाव
बता दें कि 15 दिनों से यहां गैस का अनियंत्रित रिसाव हो रहा था जिसके बाद मंगलवार को आग लग गई थी। त्रिदिव हजारिका ने कहा, ‘दमकलकर्मियों शव आग लगने वाली जगह के निकट पानी वाले क्षेत्र से बरामद किए गए। ऐस मालूम हो रहा है कि वे पानी में कूद गए और डूब गए क्योंकि उनके शरीर पर जलने का कोई निशान नहीं हैं। उनकी मौत की असल वजह जांच के बाद ही पता चल पाएगी।’

स्थानीय लोगों ने तेल कर्मचारियों पर किया हमला
भीषण आग की जद में आस-पास के जंगल का हिस्सा, मकान और वाहन भी आ गए जिसके चलते पूरे इलाके में अफरा-तफरी का माहौल है। इसके चलते स्थानीय लोगों ने ऑयल कर्मचारियों पर हमला कर दिया। इसमें कई कर्मचारियों को चोटें भी आई हैं।

केंद्रीय मंत्री से मुआवजे की गुजारिश
वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बात कर पीड़ितों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। सोनोवाल ने पीएम मोदी को कॉल करके घटना के बारे में बताया था। इस बारे में मुख्यमंत्री सोनेवाल ने ट्वीट कर जानकारी भी दी। सोनोवाल ने पत्रकारों ने बातचीत में कहा कि उन्होंने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री से दोनों मृतक के परिजनों को मुआवजा और एक सदस्य को नौकरी देने की गुजारिश की है।

4 कर्मचारी पानी में कूदे, 2 की मौत
सोनोवाल ने बताया कि आग के चलते चार तेल कर्मचारी पानी में कूद गए थे जिनमें से 2 की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि आस-पास के गांवों में रह रहे लोगों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा रहा है। हम उन्हें नुकसान के लिए पर्याप्त मुआवजा प्रदान करेंगे।

फायर टेंडर के साथ सेना भी मौजूद
राज्य के मंत्री चंद्र मोहन ने स्थिति का जायजा लिया। तेल का कुआं डिब्रू सैखोवा नैशनल पार्क से लगा हुआ है। इससे एक किमी तक के दायरे में आने वाला वन क्षेत्र और आबादी वाला इलाका प्रभावित है। लोगों के घर, वाहन, छोटे बगीचे और वन क्षेत्र का कुछ हिस्सा भी जल गया है। हम नुकसान का आकलन कर रहे हैं लेकिन भीषण आग और तापमान के चलते यह संभव नहीं हो पा रहा है। घटनास्थल पर ओआईएल,सेना, एयरफोर्स, आईओसी और असम गैस कंपनी के अलावा फायर टेंडर मौजूद हैं और आग बुझाने की कोशिश कर रहे हैं।

सिंगापुर से आएंगे विशेषज्ञ
ऑयल इंडिया ने कहा कि कुएं के आसपास हो रहे प्रदर्शनों को देखते हुए मुख्य सचिव और तिनसुकिया जिला प्रशासन से कानून-व्यवस्था बनाए रखने का अनुरोध किया गया है, ताकि विशेषज्ञ वहां तक पहुंच सकें और कुएं को नियंत्रित करने का अभियान शुरू कर सकें। ऑयल इंडिया और ओएनजीसी के कर्मचारियों को वहां से हटाया जा रहा है। हालात सामान्य होने के बाद सिंगापुर की फर्म ‘अलर्ट डिजास्टर कंट्रोल’ के विशेषज्ञ और सरकारी कंपनी के विशेषज्ञ मौके पर पहुंचेंगे।

आग पर कंट्रोल करने में लगेगा एक महीना
‘ऑयल इंडिया’ ने कहा है कि इस आग को बुझाने में चार हफ्ते यानी एक महीने का वक्त लग जाएगा। बयान में कहा गया है कि कुएं से हो रहे गैस के रिसाव को रोकने में सोमवार से ही जुटे सिंगापुर के तीन विशेषज्ञों को विश्वास है कि हालात पर काबू पाया जा सकता है और कुएं को सुरक्षित बचाया जा सकता है। बयान के अनुसार, इस पूरे अभियान में चार सप्ताह का समय लगने की संभावना है लेकिन विशेषज्ञों की टीम इसे कम करने में जुटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)