Wednesday , May 22 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / शरद पवार का चौंकाने वाला दावा, कहा- बटन दबा घड़ी पर तो कमल कैसे खिल गया

शरद पवार का चौंकाने वाला दावा, कहा- बटन दबा घड़ी पर तो कमल कैसे खिल गया

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान विपक्ष लगातार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठाता रहा है। इस बीच, शुक्रवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार ने भी ईवीएम पर आरोप लगाया है। पवार के मुताबिक, जब उन्होंने मतदान के दौरान ईवीएम पर एनसीपी का बटन दबाया, तो वह वोट भाजपा को चला गया।’ पवार के इस बयान से उन नेताओं और पार्टियों को बल मिलेगा जो आरोप लगा रही हैं कि भाजपा ने ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की है।

लोकसभा चुनाव के पांच चरणों के दौरान भी कई जगह से ऐसी शिकायतें आईं। हालांकि चुनाव आयोग शुरू से इनको खारिज करता रहा है। गौरतलब है कि ईवीएम के मुद्दे पर विपक्षी ने सुप्रीम कोर्ट में वीवीपैट को लेकर याचिका दायर की थी, जिसे बीते दिनों खारिज कर दिया गया। 21 विपक्षी दल चाहते हैं कि 50 प्रतिशत ईवीएम के नतीजों को वीवीपैट मशीनों से मिलान किया जाए।

विपक्षी दल अकसर ईवीएम में खराबी और छेड़छाड़ का आरोप लगाते रहते हैं और इसी के चलते विपक्ष की मांग रही है कि चुनाव नतीजों का वीवीपैट मशीनों से निकलने वाली पर्ची से मिलान किया जाए। इसी को लेकर इन दलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मांग की थी कि लोकसभा चुनाव के 50 प्रतिशत नतीजों का वीवीपैट की पर्चियों सो मिलान किया जाना चाहिए।

कोर्ट ने उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए 8 अप्रैल को फैसला सुनाया था कि हर विधानसभा में एक ईवीएम की बजाय 5 ईवीएम मशीनों से वीवीपैट मशीनों को जोड़ा जाए। हालांकि, विपक्ष इससे भी संतुष्ट नहीं था और इस आदेश को लेकर पुनर्विचार याचिका दाखिल की जिस पर सात मई को सुनवाई हुई और सुप्रीम कोर्ट ने यह याचिका खारिज कर दी।

पहले यह था नियम, अब यह होगा बदलाव

अब तक नियम यह था कि चुनाव आयोग 4125 ईवीएम मशीनों और वीवीपैट की पर्चियों का मिलान करता था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब आयोग 20,625 ईवीएम मशीनों का मिलान करेगा। इसमें समय ज्यादा लगेगा जिस वजह से नतीजे भी पहले के मुकाबले देरी से आएंगे। नए आदेश के बाद मतगणना करने वालों को हर विधानसभा में 5 ईवीएम से जड़ी वीवीपैट की पर्चियों को गिनना है वहीं विपक्षी दलों की मांग थी कि 6.75 लाख ईवीएम की वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाए।

पवार का मोदी पर निशाना

पवार ने दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी नंबर एक कहने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इस तरह की टिप्पणी शोभा नहीं देती। पूर्व केंद्रीय मंत्री पवार ने कहा कि जिन्होंने देश के लिए बलिदान दिया हो उनके के बारे में ऐसी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

पीएम मोदी बाकी बचे दो चरणों के लोकसभा चुनाव इस मुद्दे पर लड़ने का आह्वान कर रहे हैं। वह क्या कह रहे हैं? आखिरकार, वह किस स्तर तक गिरेंगे? बृहस्पतिवार को महाराष्ट्र के सातारा जिले में प्रेसवार्ता के दौरान पवार ने यह बातें कही। उन्होंने मोदी के उस आरोप की भी आलोचना की, जिसमें उन्होंने कहा था कि युद्धपोत आईएनएस विराट को पर्सनल टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया था।

पवार ने कहा कि रक्षामंत्री रहते हुए वह खुद युद्धपोत से अंडमान गए थे। युद्धपोत सदैव समुद्र में चलायमान रहता है। ऐसे में यदि राजीव गांधी युद्धपोत में गए तो इसमें गलत क्या है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)