Monday , June 17 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / देशभर में निज़ामुद्दीन मरकज में शामिल हुए लोगों की तलाश, पुणे में 130 से ज्यादा लापता

देशभर में निज़ामुद्दीन मरकज में शामिल हुए लोगों की तलाश, पुणे में 130 से ज्यादा लापता

दिल्ली में निजामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए लोगों की तलाश देशभर में जारी है। इस मामले के सामने आने के बाद से केन्द्र से लेकर राज्य सरकार में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं बुधवार को पुणे जिला कलेक्टर नवल किशोर राम ने बताया है कि निज़ामुद्दीन में तब्लीगी जमात के मरकज़ में पुणे से हिस्सा लेने वाले लोगों की कुल संख्या 130 से ज्यादा है, उनमें से कई या तो पुणे में नहीं हैं या फिर उन्हें ट्रेस नहीं किया जा सकता है। उनके लिए तलाश जारी है। उन्होंने बताया है कि निज़ामुद्दीन मरकज़ (दिल्ली) मामले को लेकर अब तक 60 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गया है, किसी में भी लक्षण नहीं हैं। सैंपल को जांच के लिए भेजा जा रहा है, दूसरे लोगों की ट्रेसिंग जारी है।

निजामुद्दीन में धार्मिक सभा में आए लोग दिल्ली की 16 मस्जिदों में ठहरे थे: पुलिस

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने निजामुद्दीन में धार्मिक सभा में भाग लेने के बाद राष्ट्रीय राजधानी की 16 मस्जिदों में ठहरे विदेशी नागरिकों समेत लोगों के संबंध में उठाए गए तत्काल कदमों के बारे में मंगलवार को दिल्ली सरकार को पत्र लिखा। इसके अनुसार, इस प्रकार के 157 लोग थे जिनमें 94 इंडोनेशिया, 13 किर्गिस्तान, नौ बांग्लादेश, आठ मलेशिया, सात अल्जीरिया और ट्यूनिशिया, बेल्जियम और इटली का एक-एक नागरिक शामिल है। शेष लोग भारतीय हैं। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि जिला प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की एक टीम मस्जिदों में जा रही है और विदेशी नागरिकों को वहां से निकालकर पृथक कर रही है। वे मरकज का हिस्सा थे और इमारत में भीड़ कम करने के लिए वे राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न मस्जिदों में चले गए थे।

गुजरात के निवासी दिल्ली में हुए धार्मिक आयोजन में 76 लोग शामिल हुए थे

गुजरात पुलिस नेकहा कि दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए धार्मिक आयोजन में राज्य के कुछ लोग भी शामिल हुए थे और वह उनकी पहचान करने तथा उनका पता लगाने की प्रक्रिया में है यह धार्मिक कार्यक्रम देश में कोरोना वायरस फैलाने का एक प्रमुख स्रोत बन गया है। अधिकारियों ने बताया कि अकेले सूरत से इस महीने की शुरुआत में तबलीगी जमात के मुख्यालय मरकज निजामुद्दीन में हुए आयोजन में 76 लोग शामिल हुए थे।

सूरत नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि अब अधिकारी उनका पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि उनके घातक विषाणु से संक्रमित होने की आशंका है। पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा ने कहा कि गुजरात से शामिल हुए लोगों की पहचान के लिए जांच के आदेश दिये गये और प्राथमिक जांच में खुलासा हुआ कि भावनगर से भी कुछ लोग धार्मिक आयोजन में शामिल हुए थे। उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि गुजरात से कुछ लोग सभा में गए थे। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी इस मुद्दे पर संज्ञान लिया है। झा ने गांधीनगर में पत्रकारों से कहा कि अहमदाबाद अपराध शाखा के डीसीपी दीपान भद्रन के साथ एटीएस को उन लोगों (जो धार्मिक आयोजन में शामिल हुए थे) की पहचान करने की जांच सौंपी गई है।

तेलंगाना के लगभग 1,000 लोग निजामुद्दीन मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए थे

तेलंगाना प्रशासन का अनुमान है कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में राज्य के 1000 से अधिक लोग शामिल हुए होंगे। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ऐसे लोगों के संपर्क में आए व्यक्तियों की पहचान की कोशिश की जा रही है। उस कार्यक्रम में शामिल होने वाले छह लोगों की कोरोना वायरस से मौत होने के बाद राज्य सरकार ने अपने प्रयास तेज कर दिए हैं। सोमवार रात तक तेलंगाना में कोरोना वायरस के कुल 77 मामले सामने आए हैं जिनमें से 14 लोग इस संक्रमण से उबर चुके हैं।

उत्तर प्रदेश: रबूपुरा के रह रहे 17 लोगों के निजामुद्दीन सभा में भाग लेने का पता चला

ग्रेटर नोएडा में रबूपुरा कस्बे के एक मकान में रह रहे 17 लोगों के दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित हुई धार्मिक सभा में भाग लेने का पता चला है जिसके बाद पुलिस ने उनकी चिकित्सकीय जांच कराई है। इनमें से किसी के संक्रमित होने की पुष्टि नहीं हुई है। उनके धार्मिक सभा में भाग लेने की बात पता चलने के बाद स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। बताया जा रहा है कि ये सभी लोग झारखंड के रहने वाले हैं।

पुलिस उपायुक्त (जोन तृतीय) राजेश कुमार सिंह ने कहा कि मंगलवार शाम को रबूपुरा कोतवाली पुलिस को सूचना मिली कि रबूपुरा स्थित एक मकान में कुछ लोग छुप कर रह रहे हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने 17 लोगों को मौके से पकड़ा। सभी ने स्वयं को झारखंड का निवासी बताया। प्रारम्भिक पूछताछ में उन्होंने बताया कि वे लोग दिल्ली के निजामुद्दीन से रबूपुरा आए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस ने सभी को मेडिकल जांच के लिए जेवर के सरकारी अस्पताल भेज दिया। डीसीपी ने कहा कि सभी लोग निजामुद्दीन से तबलीगी जमात कार्यक्रम में भाग लेने के बाद 14 मार्च को यहां आकर रुके थे। उन्होंने बताया कि 14 मार्च से लेकर अब तक किसी का स्वास्थ्य खराब नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि जांच के दौरान किसी में कोरोना वायरस संक्रमण की बात सामने नहीं आई।

तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में शामिल छत्तीसगढ़ के 101 लोगों की पहचान

दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में शामिल छत्तीसगढ़ के 101 लोगों की पहचान की गई है। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने आज यहां बताया कि नई दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में राज्य के 101 लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है। इस आयोजन में शामिल हुए जमात के 32 सदस्य पृथक और 69 सदस्य आइसोलेशन में रखे गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि निजामुद्दीन में आयोजन में शामिल कुछ सदस्यों में कोरोना वायरस की पुष्टि होने और कुछ लोगों की मृत्यु होने की घटना के बाद राज्य सरकार पूरी सतर्कता बरत रही हैं। छत्तीसगढ़ में आठ लोगों में कोरोना वायरस से संक्रमण की पुष्टि की गई है। दो मरीजों की अस्पताल से छुट्टी के बाद छह लोगों का इलाज किया जा रहा है। इनमें से चार रायपुर के एम्स में तथा एक बिलासपुर और एक राजनांदगांव के अस्पताल में भर्ती हैं।

कर्नाटक में कोरोना के मामले 100 के पार, तबलीगी जमात से जुड़े 78 लोगों को किया अलग

कर्नाटक में कोरोना वायरस के 10 नए मामले आने के साथ ही राज्य में इस घातक विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या 100 के आंकड़ें को पार कर गई है। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन में जानकारी दी गई कि अभी तक राज्य में कोविड-19 के 101 मामलों की पुष्टि हुई है। इनमें तीन लोगों की मौत हो गई और आठ लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। बुलेटिन में कहा गया है कि सरकार ने अभी तक राज्य के 78 लोगों की पहचान की है जो नयी दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात कार्यक्रम से संबंधित हैं और उन्हें पृथक कर दिया गया है।

निजामुद्दीन मरकज में सभा में शामिल हुए भोपाल के सभी 32 लोग दिल्ली में पृथक रखे गए

दिल्ली के निजामुद्दीन में धार्मिक सभा में शामिल हुए भोपाल के सभी 32 लोगों को दिल्ली में ही पृथक रखा गया है और उनमें से कोई व्यक्ति भोपाल नहीं आया। भोपाल के कलेक्टर तरुण पिथोडे ने मंगलवार को बताया कि इसके साथ ही विदेशों से भोपाल आए 55 और अन्य जमात सदस्यों का स्वास्थ्य परीक्षण करा लिया गया है। पिथोडे ने बताया कि इनमें से किसी में भी बीमारी के कोई लक्षण नहीं मिले। उन्होंने कहा कि इन विदेशियों के संपर्क में आए लोगों के नमूने भी जांच के लिए भेज दिए गए हैं। पिथोडे ने कहा कि सभी जमात सदस्यों ने 21 दिन का स्वयं पृथक रहने का समय पूरा कर लिया है। किसी भी जमाती में बीमारी का कोई लक्षण नहीं है। उन्होंने कहा कि भोपाल की जनता को घबराने की आवश्यकता नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)