Sunday , July 21 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / अब बहन जी को समझ आ गया है कि सपा-कांग्रेस ने बहुत बड़ा खेल खेला है: PM मोदी

अब बहन जी को समझ आ गया है कि सपा-कांग्रेस ने बहुत बड़ा खेल खेला है: PM मोदी

समाजवादी पार्टी ने गठबंधन के बहाने बहन मायावती का तो फायदा उठा लिया, लेकिन अब बहन जी को समझ आ गया है कि सपा और कांग्रेस ने बहुत बड़ा खेल खेला है। अब बहन जी खुले आम कांग्रेस और नामदार की आलोचना करती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में एक जनसभा के दौरान ये बात कही।

प्रतापगढ़ क्षेत्र में पिछली बार अपना दल के कुंवर हरिवंश सिंह ने चुनाव जीता था। इस बार भाजपा ने यह सीट अपना दल को न देकर पार्टी के चुनाव चिह्न कमल पर संगमलाल गुप्ता को उम्मीदवार बनाया है। हालांकि संगमलाल अपना दल एस के ही विधायक हैं।

पीएम मोदी के भाषण की मुख्य बातें

* 4 चरणों के मतदान के बाद उत्तर प्रदेश के लोगों ने तय कर दिया है कि नतीजे क्या आने वाले हैं। अब पांचवे चरण से पहले अगर ये महामिलावटी लोग आपका ये उत्साह देख लेंगे तो शायद मैदान ही छोड़ देंगे।

उत्तर प्रदेश के लोगों ने जिस तरह ठान लिया है कि विकास के आगे उन्हें कुछ भी मंजूर नहीं है। इन महामिलावटी लोगों को समझ ही नहीं आ रहा है कि अब बचा हुआ चुनाव बचाने के लिए कौन सा खेल खेला जाए।

अब ये साफ हो चुका है कि समाजवादी पार्टी ने गठबंधन के बहाने बहन मायावती का तो फायदा उठा लिया, लेकिन अब बहन जी को समझ आ गया है कि सपा और कांग्रेस ने बहुत बड़ा खेल खेला है। अब बहन जी खुले आम कांग्रेस और नामदार की आलोचना करती है।

कल तक कांग्रेस के नामदार कहते थे कि वो मोदी के प्रभाव से डरते हैं। अब वो कहने लगे हैं कि मोदी से तब तक नहीं जीत सकते, जब तक मोदी की मेहनत और मोदी की देशभक्ति पर दाग न लग जाए।

नामदार कान खोलकर सुन लो, ये मोदी सोने की चम्मच लेकर और राज परिवार में पैदा नहीं हुआ है। ये मोदी भारत मां की धूल फांककर बड़ा हुआ है। ये मोदी 5 दशक तक बिना रुके बिना थके, सिर्फ भारत माता के लिए जिया है और भारत माता के लिए तपस्या की है।

न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिए, पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे।

उत्तर प्रदेश के लोगों को मजबूत भारत के लिए, मजबूत सरकार के अपने संकल्प पर अडिग रहना है। मजबूर और अवसरवाद की इस महामिलावट का पंजा बहुत खतरनाक है।

महामिलावट के इस पंजे के 5 भयानक खतरे हैं: पहला खतरा- भ्रष्टाचार, दूसरा खतरा- अस्थिरता, तीसरा खतरा- जातिवाद, चौथा खतरा- वंशवाद, पांचवा खतरा- कुशासन।

कांग्रेस के नामदार किसानों की ज़मीन पर ट्रस्ट के नाम पर कब्जा करते हैं और फिर उसको हड़प लेते हैं। किसानों से जमीन लेते हैं फैक्ट्री के नाम पर और उस पर अपने लिए नोटों की खेती करते हैं। यहां अमेठी में तो यही हुआ था ना।

आज सुबह ही में पढ़ रहा था कि जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तब नामदार के एक बिजनेस पार्टनर को कैसे रक्षा सौदों में शामिल किया गया था। सरकार भी अपनी, दोस्त भी अपना और रक्षा सौदा भी बड़ा यानी नामदार के लिए मलाई का पूरा इंतजाम था।

21वें सदी में देश जिस पड़ाव पर है, दुनिया में जिस तरह के बदलाव हो रहे हैं, उसमें भारत का मजबूत होना जरूरी है। वरना महामिलावट वालों का इतिहास जिस तरह देश की सुरक्षा से खिलवाड़ का रहा है, ये लोग देश के भविष्य को भी बर्बाद करने में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे।

हमने आतंकवाद को सीमा के एक बहुत छोटे हिस्से तक समेट दिया है। ऐसा इसलिए हो पा रहा है क्योंकि हम आतंक पर देश के भीतर और सीमापार दोनों जगह सीधा प्रहार कर रहे हैं। वोट के लिए हम किसी आतंकी की जात, पंथ नहीं देख रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)