Monday , April 22 2024
ताज़ा खबर
होम / मध्य प्रदेश / रायसेन / मुसीबत में मनरेगा बनी मददगार, मनरेगा के काम शुरू होने से 26 हजार लोगों को गांव में ही मिला रोजगार

रायसेन / मुसीबत में मनरेगा बनी मददगार, मनरेगा के काम शुरू होने से 26 हजार लोगों को गांव में ही मिला रोजगार

आम सभा, रायसेन : देश में नोवेल कोरोना महामारी से बचाव एवं नियंत्रण के लिए लॉकडाउन घोषित किया गया है। लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में श्रमिक अन्य राज्यों एवं जिलों से वापस अपने गांव आए। उनके सामने सबसे बड़ा संकट परिवार के जीवन निर्वाह का था। इसके लिए उन्हें रोजगार की नितांत आवश्यकता थी। ऐसे में सरकार द्वारा महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत ग्रामों में रोजगारमूलक कार्य प्रारंभ किए गए हैं, जो श्रमिकों के लिए वरदान साबित हो रहे है। मनरेगा के कार्य प्रारंभ होने से ग्रामीणों को रोजगार के साथ-साथ आर्थिक सम्बल भी मिला है।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अवि प्रसाद ने बताया कि महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम के तहत जिले में 26447 मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि मनरेगा के तहत अधिक से अधिक रोजगारमूलक कार्य प्रारंभ करने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए हैं। भारत सरकार द्वारा जारी गाइड लाईन के अनुसार मनरेगा में जल संरक्षण एवं संवर्धन तथा सिंचाई के कार्यों को प्राथमिकता देकर जरूरतमंदों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रायसेन जिले की 491 ग्राम पंचायतों में से 486 ग्राम पंचायतों में 28 मई को महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम के तहत 26447 मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। जिले की ग्राम पंचायतों में 4942 कार्य किए जा रहे हैं, जिनमें जल संग्रहण के 1756 कार्य तथा प्रधानमंत्री आवास योजना के 2300 कार्य शामिल हैं।

मनरेगा योजना के तहत बाड़ी जनपद में 4375 मजदूरों को, बेगमगंज जनपद में 3459 मजदूरों को, गैरतगंज जनपद में 4282 मजदूरों को, औबेदुल्लागंज में 3421 मजदूरों को, सांची जनपद में 3858 मजदूरों को, सिलवानी जनपद में 4304 मजदूरों को तथा उदयपुरा जनपद में 2748 मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। मनरेगा के तहत संचालित कार्यो में सोशल डिस्टेंसिंग तथा सेनिटाईजर के उपयोग सहित अन्य सुरक्षा उपायों को अपनाया जा रहा है तथा सभी मजदूरों द्वारा मुंह को मास्क या गमछा से ढंककर कार्य किया जा रहा है।

मुसीबत की घड़ी में मददगार बनी मनरेगा

सांची जनपद की ग्राम पंचायत धनियाखेड़ी निवासी रामबाबू, गुड़िया बाई तथा मुन्नालाल ने बताया कि ग्राम में मनरेगा के तहत तालाब का कार्य प्रारंभ होने से उन्हें नियमित रोजगार मिल रहा है। मजदूर भी उत्साहित होकर काम करने आ रहे हैं। इस मुश्किल समय में काम मिलने से उनकी बहुत बड़ी समस्या हल हो गई। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को धन्यवाद देते हुए कहा कि राज्य शासन ने इस कठिन समय में उनकी रोजी-रोटी का ध्यान रखा है। मनरेगा में काम करने से उनको मजदूरी राशि मिल रही है, इससे घर गृहस्थी चलाने में परेशानी नहीं आ रही है। उन्होंने कहा कि मनरेगा कार्यों के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग तथा अन्य सावधानियों का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)