Saturday , April 13 2024
ताज़ा खबर
होम / मध्य प्रदेश / भोपाल / दलित महिला को आयटम बता कमलनाथ की सोच हुई उजागर

भोपाल / दलित महिला को आयटम बता कमलनाथ की सोच हुई उजागर

भोपाल। स्वर्गीय संजय गांधी के परम मित्र और इंदिरा गांधी के अपने आपको तीसरे बेटे प्रचारित करने वाले कमलनाथ का भले ही एक लंबा राजनैतिक जीवन रहा हो और इस दौरान वह विभिन्न उच्च पदों पर विभागों के मुखिया रहे हों लेकिन मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के बतौर तो उन्होंने यह साबित कर दिया कि वह टीम के कप्तान की काबलियत उनमें नहीं है वह टीम में रहकर ही बैटिंग कर सकते हैं तभी तो मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने साढ़े ग्यारह महीने के शासनकाल को भले ही वह अच्छा शासनकाल बताने से नहीं थकते हों लेकिन हकीकत यह है कि मध्यप्रदेश के राजनीतिक इतिहास में असफल मुख्यमंत्री साबित हुए हैं?

यह बात अलग है कि उनके सहयोगी दिग्विजय सिंह ने सुपर चीफ मिनिस्टर बनाकर उनकी सरकार को साढ़े ग्यारह महीने चलाई हो लेकिन इस दौरान क्या-क्या हुआ यह भी एक इतिहास ही है। कमलनाथ भले ही अपने आपको बड़ा राजनैतिक नेता मानते हों लेकिन उनकी ही पार्टी में वर्षों तक रही दलित महिला इमरती देवी जिसे मंत्री बनाकर अपना सहयोगी के रूप में रखा लेकिन जिस कमलनाथ की असफलता और विधायकों को धमकियों के साथ किसानों व बेरोगारों को दिये गये वचनों की पूर्ति न करने के कारण सत्ता से बेदखल हुए हैं जबसे वह बौरा गये हैं।

क्योंकि उन्हें अब सत्ता की वापसी की संभावना नजर नहीं आ रही है, यह अलग बात है कि उनके वह सहयोगी जिन्होंने सत्ता का स्वाद बड़ी करीबी से चखकर खूब माल बटोरा वह सब यह दावा करते नजर आ रहे हैं कि 28 सारी सीटें जीतकर कांग्रेस पुन: सत्ता पर वापसी कर रही है लेकिन राजनैतिक पंडितों और जनता का माहौल देखकर यह नजर नहीं आ रहा है कि कांग्रेस की सत्ता में वापसी संभव है क्योंकि सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस को 28 सीटें चाहिए और भाजपा को नौ सीटें इतना बड़ा अंतर क्या कांग्रेस पटा पाएगी।

शायद यही वजह है कि कमलनाथ अब ऊटपटांग भाषा का उपयोग करने लगे हैं वैसे कमलनाथ के बारे में तरह-तरह की चर्चायें चलती रही हैं तो वहीं केन्द्रीय कपड़ा राज्यमंत्री होने की हैसियत से विदेशी भ्रमण से लौटने के साथ जिस तरह की सामग्री लाई गई थी यदि उस सामग्री का खुलासा यहां कर दिया जाये तो लोगों में कमलनाथ का चरित्र उजागर हो जायेगा और यही नहीं साढ़े ग्यारह महीने के शासनकाल के दौरान सार्वजनिक कार्यक्रमों में कमलनाथ का रवैया कई कार्यक्रमों में महिलाओं के प्रति उजागर हुआ है उसे देखकर तो यह साफ नजर आता है कि कमलनाथ की महिलाओं के प्रति किस तरह का रवैया है और इसका खुलासा उन्होंने अपनी ही मंत्रीमण्डल की सहयोगी रही दलित महिला इमरती देवी को आयटम बताकर कर दिया।

उनके इस तरह के कथन के बाद कमलनाथ के प्रति महिलाओं और खासकर दलित वर्ग की महिलाओं में में काफी रोष व्याप्त है अब देखना है कि दलित इमरती देवी को आयटम बताने वाले कमलनाथ और उनकी पार्टी का भविष्य क्या होगा यह दस नवम्बर को ही पता चल सकेगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)