Thursday , May 23 2024
ताज़ा खबर
होम / मध्य प्रदेश / भोपाल में ’आवागमन की सुगमता’ में सुधार

भोपाल में ’आवागमन की सुगमता’ में सुधार

आम सभा, भोपाल : मध्यप्रदेश के इंदौर व अन्य शहरों की भांति भोपाल एक मॉडल सिटी की तरह उभर रहा है, विशेष रूप से स्वच्छता और लंबी चलने वाली कुछ चीजों के मामले में।ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स 2018 के अनुसार, भोपाल भारत में रहने के लिहाज से सबसे उपयुक्त शहरों की सूची में 10वें स्थान पर है और यह स्मार्ट सिटी मिशन के तहत चयनित उन 98 शहरों में शामिल है, जिन्हें स्मार्ट, कनेक्टेड और इको-फ्रेंडली सिटी बनाया जाना है और इसके लिए जहां विभिन्न परियोजनाएं लागू होनी हैं।इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सेंटर (आईसीसीसी) के निर्माण हेतु अभिनवदृष्टिकोण और पर्यावरण के अनुकूल सार्वजनिक बाइक शेयरिंग योजना लागू करने के लिए इसे स्मार्ट सिटी अवार्ड्स 2018 में विभिन्न श्रेणियों के तहत सम्मानित किया जा चुका है।

शहर को 186 किलोमीटर की परिचालन दूरी के साथ, सबसे सफल बस रैपिडट्रांजिट (बीआरटी) नेटवर्क के संचालन का गौरव प्राप्त है। रु.6900 करोड़ के अनुमानित निवेश और 27.87 किलोमीटर की प्रस्तावित परिचालन दूरी के साथ मे ट्रोरेल का निर्माण भी शुरू किया गया है। स्थायी आधार भूत संरचना ओंके अलावा, शहर में गतिशीलता को संबोधित करने के लिए इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम, पब्लिक बाइक शेयरिंग, इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोलसेंटर, स्मार्ट पार्किंग तथा स्मार्ट रोड प्रोजेक्ट में निवेश किया जा रहा है। हालांकि, परिवहन और गतिशीलता के लिए सुगमता सूचकांक में भोपाल को 23वें स्थान पर रखा गया है, जो सुधार की गुंजायश का संकेत देता है। परिवहन एवं गतिशीलता के सुगमता सूचकांक में मापे जाने वाले विभिन्न मापदंडों में सार्वजनिक परिवहन की भौगोलिक अवस्था, सार्वजनिक परिवहन का मॉडल शेयर, पार्किंग स्थलों, फुटपाथ, पैदल यात्री क्रॉसिंग की उपलब्धता तथा सार्वभौमिक पहुंच आदि शामिल हैं।

शहरों में गतिशीलता को बदलने के लिए कोई एक अकेला समाधान उपलब्ध नहीं है, क्योंकि हर शहर अपने चरित्र, संस्कृति और अर्थव्यवस्था में अद्वितीय है, जिससे यह एक चुनौती पूर्ण प्रस्ताव बन जाता है। ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित सुगमता सूचकांक एक व्यापक ढांचा है, जो शहरी लोगों, आधार भूत संरचनाओं और स्थायित्व के तीन स्तंभों में वर्गीकृत 50+ मापदंडों पर उनके गतिशीलता परिदृश्यों का मूल्यांकन करने में मदद करता है। सूचकांक का 2018 संस्करण, 20 भारतीय शहरों में 43,000़ से अधिक लोगों के सर्वेक्षण के आधार पर, गतिशीलता परिदृश्य पर समृद्ध अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। सर्वेक्षण में भोपाल के 2000 से अधिक व्यक्तियों को शामिल किया गया, जो शहर के नागरिकों की विविध आवश्यकताओं और आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।

लगभग 85 प्रतिशत उत्तर दाताओं ने महसूस किया कि पिछले पांच वर्षों में गतिशीलता परिदृश्य में सुधार हुआ है, जो राष्ट्रीय औसत से अधिक है, जिसमें 80 प्रतिशत लोगों ने संकेत दिया है कि गतिशीलता परिदृश्य में सुधार हुआ है। अन्य शहरों की तुलना में, भोपाल के उत्तरदाताओं ने सार्वजनिक परिवहन के लिए उच्च प्राथमिकता दिखाई और महसूस किया कि सार्वजनिक परिवहन किफायती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)