Friday , May 24 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / स्कूल में हिंदू-मुस्लिम बच्चों को बैठाता था अलग, सस्पेंड

स्कूल में हिंदू-मुस्लिम बच्चों को बैठाता था अलग, सस्पेंड

नई दिल्ली
हिंदू और मुस्लिम बच्चों को अलग-अलग सेक्शन में बैठाने वाले वजीराबाद के एक स्कूल के इन्चार्ज चंद्रभान सहरावत को सस्पेंड कर दिया गया है। जुर्माने के रूप में उनके वेतन से पैसे काटने का भी आदेश एमसीडी अफसरों ने दिया है। उधर, दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने एमसीडी स्कूल इंचार्ज के इस तरह से हिंदू-मुस्लिम बच्चों को अलग-अलग बैठाने की हरकत की निंदा की है और इसे देश के संविधान के खिलाफ साजिश बताया है। उन्होंने एजुकेशन डायरेक्टर को मामले की जांच कर रिपोर्ट शुक्रवार तक उपलब्ध कराने को कहा है।

नॉर्थ एमसीडी मेयर आदेश गुप्ता के अनुसार बुधवार को शिकायत मिली थी कि तिमारपुर वॉर्ड के वजीराबाद स्कूल-2 में हिंदू और मुस्लिम बच्चों को अलग-अलग सेक्शन में बैठाया गया है। एजुकेशन डायरेक्टर के नेतृत्व में एक कमिटी बनाई गई और जांच के लिए स्कूल भेज दिया गया। शाम तक कमिटी ने अपनी रिपोर्ट दी, जिसमें बताया गया कि स्कूल को कोई प्रिंसिपल नहीं था। इसलिए चंद्रभान सहरावत को जुलाई में स्कूल का इन्चार्ज बनाया गया। जैसे ही उसे यह पदभार मिला, उसने 5वीं और पहली क्लास के कुछ सेक्शन में पढ़ने वाले हिंदू और मुस्लिम बच्चों अलग-अलग करके बैठा दिया। करीब 3 महीने से यह सिलसिला चल रहा था।

मामले की जानकारी मिलने के बाद बुधवार को दोषी स्कूल इन्चार्ज के सस्पेंड कर दिया गया है। उनके खिलाफ वेतन कटौती के रूप में जुर्माना भी लगाया गया है। मेयर का कहना है कि पहली क्लास में 72 बच्चे हैं, जिनमें से मुस्लिम बच्चों को अलग और हिंदु बच्चों को अलग सेक्शन में बैठाया गया था। इसी तरह से पांचवी में 182 स्टूडेंट्स हैं, जिन्हें अलग-अलग सेक्शन में बैठाया गया था। इन्चार्ज के खिलाफ कार्रवाई करने के बाद अब बच्चों को पहले की तरह ही उनके सेक्शन में ट्रांसफर कर दिया गया है।

शिक्षा मंत्री ने दिए जांच के आदेश
दिल्ली के शिक्षा मंत्री ने इस मामले की निंदा की है। उन्होंने कहा है कि एमसीडी स्कूल में इस तरह से बच्चों को जातिगत और धर्म के आधार पर बांटना देश के संविधान के खिलाफ सबसे बड़ी साजिश है। मामले में उन्होंने डायरेक्टर एजुकेशन को जांच करने का भी आदेश है और रिपोर्ट शुक्रवार तक देने के लिए कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)