Monday , April 22 2024
ताज़ा खबर
होम / मध्य प्रदेश / देश में प्राथमिक चिकित्सा की शिक्षा बेहद जरूरी: प्रो. रामदेव भारद्वाज

देश में प्राथमिक चिकित्सा की शिक्षा बेहद जरूरी: प्रो. रामदेव भारद्वाज

• प्राथमिक चिकित्सा विशेषज्ञ कोर्स स्वास्थ्य सुरक्षा के संबंध में एक सकारात्मक संदेश

आम सभा, भोपाल : प्राथमिक चिकित्सा की शिक्षा और उसके लिए पाठ्यक्रमों की जरूरत पर अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय द्वारा प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। यह प्रेस वार्ता एम पी नगर स्थित एक निजी होटल में की गई। प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. रामदेव भारद्वाज ने विश्वविद्यालय द्वारा शुरू किए गए प्राथमिक चिकित्सा और इससे जुड़े अन्य प्राथमिक उपचार पाठ्यक्रमों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि सभी इच्छुक अभ्यर्थी जो चिकित्सा सेवा के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं उन्हें इस पाठ्यक्रम के माध्यम से बेहतर विकल्प प्राप्त हो सकते हैं। यह पाठ्यक्रम रोजगार एवं स्वरोजगार को बढ़ाने के लिए एक सुनहरी पहल है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को मंजूरी देने के बाद से सरकार अपना ध्यान प्राथमिक चिकित्सा को मजबूत बनाने में लगा रही है। और प्राथमिक चिकित्सा के पाठ्यक्रमों को शुरू करके हमारा विश्वविद्यालय प्रधानमंत्री के सपनों को पूरा करने में मदद कर रहा है। इन सभी पाठ्यक्रमों को संचालित करने के लिए भारतीय प्राथमिक चिकित्सा परिषद् (फर्स्ट ऐड काउंसिल ऑफ़ इंडिया), दिल्ली को चिन्हित किया गया है। विश्वविद्यालय अध्यापन सहयोगी संस्था भारतीय प्राथमिक चिकित्सा परिषद् के माध्यम से पूरे मध्य प्रदेश में कई अध्ययन केंद्र व सूचना केंद्र स्थापित कर रहा है।

प्रेस वार्ता के दौरान फर्स्ट ऐड काउंसिल ऑफ़ इंडिया के प्रेसिडेंट डॉ. शबाब आलम ने बताया कि अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा प्राथमिक चिकित्सा विशेषज्ञ डिप्लोमा कोर्स एक अनोखा कोर्स है जिसके माध्यम से पूरे देश में स्वास्थ्य सुरक्षा के संबंध में एक सकारात्मक संदेश जन हित स्वरोजगार हेतु दिया गया है तथा इसके लाभ पूरे देश के छात्र-छात्राएं मध्य प्रदेश राज्य में स्थित अध्ययन अध्यापन केन्द्रों के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। यह कुशल योजना के अंतर्गत स्वरोजगार व रोजगार हेतु विश्वविद्यालय व एफएसीआई के माध्यम से किया जा रहा है। गौरतलब है कि उत्तीर्ण अभ्यर्थी अपना प्राथमिक उचार केंद्र खोल सकेंगे तथा विधी द्वारा पंजीकृत भी किए जाएंगे। विश्वविद्यालय की कुलसचिव प्रो. रेखा राय ने बताया कि कोविड-19 के कारण अध्ययन, अध्यापन व परीक्षा ऑनलाइन की जायेंगी तथा इसके माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा संकल्पित आत्मनिर्भर भारत व डिजिटल इंडिया की संकल्पना को प्रोत्साहन देना है। प्रेस वार्ता में भारतीय प्राथमिक चिकित्सा परिषद् के डायरेक्टर अजय साहू भी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)