Friday , June 14 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / अखबार से नहीं फैलता है कोरोना वायरस, अबतक विश्व से नहीं आया संक्रमण का कोई मामला

अखबार से नहीं फैलता है कोरोना वायरस, अबतक विश्व से नहीं आया संक्रमण का कोई मामला

कोरोना वायरस के कारण पूरा विश्व इन दिनों दहशत में है. शंकाओं और अफवाहों का बाजार गर्म है. कुछ लोगों का कहना है कि अखबार, कागज या नोट से भी कोरोना वायरस फैलता है. इस अफवाह के कारण इंटरनेशनल न्यूज मीडिया एसोसिएशन (INMA) सहित भारत की मीडिया इंडस्ट्री भी मुश्किल में है, जबकि इस बात का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि अखबार से कोरोना वायरस फैलता है. इस अफवाह के बाद मीडिया इंडस्ट्री वही कह रही है जो विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन में बताया गया है. ऐसे में यह जरूरी है कि आप वह जानें, जो मीडिया इंडस्ट्री जानती है.

अखबार छूने से कोरोना का खतरा बढ़ता है इस अफवाह का सच जानने के लिए कुछ रिसर्च INMA ने करवाया है, जिसमें यह बात उभरकर सामने आयी है कि अखबार का कागज इस कठिन परिस्थिति में भी बहुत सुरक्षित है. प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री से जुड़े संस्थान अखबारों को सेनेटाइज भी करवा रहे हैं. अखबार की प्रिटिंग से लेकर उसके वितरण तक अखबार को सुरक्षित करने का प्रयास किया जा रहा है ताकि वह पूरी तरह सेनेटाइज होकर पाठकों तक पहुंचे.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है ऐसे पैकेट में जो कई जगहों से चलकर आया हो उसपर कोरोना वायरस के जीवित रहने की संभावना काफी कम है. हार्टफोर्ड हेल्थकेयर ने इसे और अधिक स्पष्ट रूप से बताया है और कहा है कि जो चीजें आपके घर पर डिलीवर की जा रहीं हैं, उसे लेकर ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं क्योंकि Coronaviruses वस्तुओं पर लंबे समय तक नहीं रहता है. ”

अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (सीडीसी) का कहना है कि कोई व्यक्ति उस वस्तु के संपर्क में आने से कोविड-19 से संक्रमित हो सकता है, लेकिन वायरस फैलने का यह मुख्य तरीका नहीं हो सकता है. डब्लूएचओ और सीडीसी के बयानों से यह लगता है कि अभी तक इस वायरस के फैलने का कोई स्पष्ट कारण नहीं है, लेकिन अखबार या कागज से कोरोना का संक्रमण होने की एक भी घटना सामने नहीं आयी है, इसलिए यह अफवाह ही प्रतीत होता है कि अखबार से कोरोना वायरस का प्रसार होता है.

शोधकर्ताओं के अनुसार कोरोना वायरस चिकनी, गैर-छिद्रपूर्ण सतहों पर सबसे लंबे समय तक रहता है. शोधकर्ताओं ने पाया कि प्लास्टिक और स्टेनलेस स्टील पर वायरस तीन दिनों के बाद भी मौजूद था. शोधकर्ताओं का कहना है कि यह उतना खतरनाक नहीं है जितना यह लगता है क्योंकि हवा के संपर्क में आने के बाद वायरस की ताकत तेजी से घट जाती है. क्योंकि वायरस हर 66 मिनट में अपनी आधी शक्ति खो देता है. किसी सतह पर उतरने के बाद वह तीन घंटे तक संक्रामक होता है. छह घंटे बीतने के बाद उसके संक्रामक होने की आशंका दो प्रतिशत हो जाती है. कार्डबोर्ड पर यह वायरस 24 घंटे के बाद जीवित नहीं रहता है, जबकि अखबार पर यह 24 घंटे भी नहीं रह सकता क्योंकि उसमें बहुत छिद्र होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)