Sunday , February 25 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / भीमा-कोरेगांव केस: महाराष्ट्र पुलिस ने नक्सल समर्थक कवि वरवर राव को किया गिरफ्तार

भीमा-कोरेगांव केस: महाराष्ट्र पुलिस ने नक्सल समर्थक कवि वरवर राव को किया गिरफ्तार

महाराष्ट्र पुलिस ने भीमा-कोरेगांव मामले में नक्सल समर्थक वरवर राव को गिरफ्तार कर लिया है. शुक्रवार को हैदराबाद हाईकोर्ट ने वरवर राव की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसके बाद उनकी यह गिरफ्तारी हुई है. महाराष्ट्र पुलिस वरवर राव को गिरफ्तार करने के बाद पुणे लेकर जा रही है.

वरवर राव उन पांच लोगों में शामिल हैं, जिन पर नक्सलियों के साथ संबंध रखने और भीमा कोरेगांव हिंसा में शामिल होने के आरोप हैं. इससे पहले अगस्त में भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पुणे पुलिस की अगुवाई में देशभर में छापेमारी हुई थी. इस दौरान वरवर राव समेत कई नक्सल समर्थकों को गिरफ्तार किया गया था.

हालांकि बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी और इनको नजरबंद रखने का निर्देश दिया था. इससे पहले इस साल के शुरुआत में पुणे पुलिस ने नक्सल नेता की ओर से लिखे गए एक कथित पत्र को जब्त किया था, जिसमें देश में विभिन्न नक्सल गतिविधियों के लिए प्रतिष्ठित तेलुगू कवि वरवर रावके कथित ‘मार्गदर्शन’ के लिए उनकी तारीफ की गई थी.

कौन हैं वरवर राव

नक्सल समर्थक वरवर राव एक कवि और लेखक हैं. वो 1957 से कविताएं लिख रहे हैं. उन्हें इमरजेंसी के दौरान अक्टूबर 1973 में आंतरिक सुरक्षा रखरखाव कानून (मीसा) के तहत गिरफ्तार किया गया था. आपातकाल के दौरान उनकी तरह कई राजनीतिक कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और बुद्धिजीवियों को गिरफ्तार किया गया था.

वरवर, वीरासम (क्रांतिकारी लेखक संगठन) के संस्थापक सदस्य थे. साल 1986 के रामनगर साजिश कांड सहित कई अलग-अलग मामलों में 1975 और 1986 के बीच उन्हें एक से ज्यादा बार गिरफ्तार और फिर रिहा किया गया. उसके बाद 2003 में उन्हें रामवगर साजिश कांड में बरी किया गया और 2005 में फिर जेल भेज दिया गया था. उन्हें नक्सलियों का समर्थक माना जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)