Friday , May 24 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / आजतक सुरक्षा सभा: एयरस्ट्राइक पर बोले जेटली- मार खाकर चुप रहना PAK की मजबूरी

आजतक सुरक्षा सभा: एयरस्ट्राइक पर बोले जेटली- मार खाकर चुप रहना PAK की मजबूरी

पाकिस्तान में घुसकर कर आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के द्वारा की गई एयर स्ट्राइक के बाद से ही राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा राजनीति के केंद्र में आ गया है. आजतक के विशेष ‘सुरक्षा सभा’ से केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने पाकिस्तान और एयर स्ट्राइक के मुद्दे पर बेबाकी से हर सवाल का जवाब दिया. एयर स्ट्राइक पाकिस्तान के इनकार के सवाल पर जेटली ने कहा कि पाकिस्तान के लिए मार खाना और उसे छुपा लेना पाकिस्तान की मजबूरी है.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, ‘ जब हमने स्ट्राइ‍क किया तो हमने दुनिया को बताया नहीं. दुनिया को पहली सूचना सुबह के 4 बजकर 45 मिनट पर उनकी फौज ने दी. पाकिस्तान की सरकार के बजाय सेना का एयर स्ट्राइक पर बात रखने के दो कारण थे. ये स्पष्ट है कि वहां की वहां की सरकार को सेना चला रही है. इसके अलावा दूसरा कारण ये है कि पाकिस्तान सेना ने जो हौवा अपने देश में बना रखा है कि उनकी सीमा बहुत मजबूत है. लेकिन इन घटनाओं के सच से उनकी यह छवि पूरी तरह दरक जाती है. यही वजह कि वह सारी सच्चाई जनता से छुपा रही है. अगर इस बात की वहां की जनता को पता चल जाए तो पाकिस्तान सेना के झूठे माहौल बनाए रखना मुश्किल हो जाएगा.

भारत की एयर स्ट्राइक से हुए नुकसान को पाकिस्तान के अस्वीकार करने के मुद्दे पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा अगर पाकिस्तान स्वीकार कर लेता कि यह घटना हुई है, तो अंतरराष्ट्रीय समुदाय कई तरह के सवाल करते. जैसे बालाकोट में क्या हो रहा था? कौन मारा गया? तो पाकिस्तान क्या जवाब देता कि हमारे यहां जैश-ए- मोहम्मद के आतंक के कैंप चल रहे थे और एयर मिसाइल से हमला किया गया है. इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र के सामने क्या जवाब देता. फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स का अलग दबाव है. यदि  पाकिस्तान स्वीकार कर लेता तो उसके ब्लैक लिस्ट में जाने का खतरा था. लिहाजा, पाकिस्तान के लिए मार खाना और उसको पी जाना सरल था.

अरुण जेटली ने कहा कि इस बार एयरफोर्स ने पाकिस्तान की सीमा में  खैबर पख्तूनख्वा में जाकर सटीक प्रहार किया. इस हमले से हमने वो अवधारणा तोड़ दी जिसमें कहा जाता था कि भारत नियंत्रण रेखा की पवित्रता बरकरार रखेगा, क्योंकि हमारी कार्रवाई के बाद दुनिया के किसी भी राष्ट्र ने हमारी आलोचना नहीं की. वजह ये थी कि हमने एहतियातन हमले किए जिसमें निर्दोष लोगों या पाकिस्तान की सेना को निशाना नहीं बनाया. हमने सिर्फ वहां के आतंकी कैंपों को निशाना बनाया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)