Wednesday , May 22 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / 4 बजे तक 52% मतदान; भाजपा की मांग- बंगाल में आचार संहिता लागू रहने तक केंद्रीय बल तैनात रहें

4 बजे तक 52% मतदान; भाजपा की मांग- बंगाल में आचार संहिता लागू रहने तक केंद्रीय बल तैनात रहें

नई दिल्ली

लोकसभा चुनाव में सातवें चरण के लिए मतदान हो रहा है। इस चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। 918 उम्मीदवार मैदान में हैं। चार बजे तक 52 फीसदी मतदान हुआ है। झारखंड में सबसे ज्यादा 64 फीसदी मतदान की खबर है। मध्यप्रदेश में 59 फीसदी वोट पड़े हैं। पश्चिम बंगाल में इस चरण में भी हिंसा हुई है।

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शुरू से धमकी देती रहीं हैं, इसलिए हमें डर है कि मतदान खत्म होने के बाद टीएमसी वहां नरसंहार शुरू न कर दे। इसलिए चुनाव आयोग से हमारी मांग है कि आचार संहिता खत्म होने तक वहां केंद्रीय बल तैनात रहें।

इस चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, शत्रुघ्न सिन्हा, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, अनुराग ठाकुर, भोजपुरी अभिनेता रविकिशन, सनी देओल, सुखबीर बादल, हरसिमरत कौर, शिबू सोरेन और पवन कुमार बंसल जैसे उम्मीदवार मैदान में हैं।

इस चरण में बिहार की 8, झारखंड की 3, मध्यप्रदेश की 8, उत्तरप्रदेश की 13, प. बंगाल की 9, हिमाचल प्रदेश की 4, पंजाब की 13 और चंडीगढ़ की 1 सीट पर मतदान है। मप्र की देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगोन, खंडवा सीट पर वोटिंग है। इस चरण में मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद खाली हुई गोेवा की पणजी विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए मतदान है। इसके अलावा तमिलनाडु की चार विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव के लिए वोटिंग है। लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई को आना है।

2014 में एनडीए ने 40 सीटों पर जीत हासिल की थी

इस चरण में जिन 59 सीटों पर मतदान है, 2014 में एनडीए ने इनमें से 40 (भाजपा- 33, अकाली दल- 4, रालोसपा-2, अपना दल-1) पर जीत हासिल की थी। पिछले लोकसभा चुनाव में बिहार में उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा भाजपा के साथ लड़ी थी, जबकि नीतीश कुमार की जनता दल अलग चुनाव लड़ी थी। बंगाल की जिन 9 सीटों पर मतदान है, उनमें से सभी पर तृणमूल ने जीत हासिल की थी। इन 59 सीटों में आप ने 4, कांग्रेस ने 3, झामुमो ने 2 और जदयू ने 1 सीट हासिल की थी।

बंगाल में केंद्रीय सुरक्षाबलों की 710 टुकड़ियां तैनात
बंगाल में लगातार 6 चरणों में हुई हिंसा को देखते हुए चुनाव आयोग ने यहां केंद्रीय सुरक्षाबलों की 710 टुकड़ियां तैनात की हैं। वहीं, 512 क्विक रिस्पॉन्स टीमें बनाई गई हैं। 710 टुकड़ियां में 147 टुकड़ियां कोलकाता पुलिस के अधिकार क्षेत्र में तैनात रहेंगी।

7वां चरण: ये बड़े चेहरे मैदान में 

नरेंद्र मोदी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 की तरह इस बार भी उत्तरप्रदेश की वाराणसी लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में हैं। सपा-बसपा ने गठबंधन उम्मीदवार के तौर पर शालिनी यादव को उम्मीदवार बनाया। वहीं, कांग्रेस ने पिछली बार मोदी के खिलाफ चुनाव लड़े अजय राय को ही टिकट दिया है।

शत्रुघ्न सिन्हा: अभिनेता और बागी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस के टिकट पर पटना साहिब सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। इससे पहले वे 2 बार इस सीट से भाजपा के टिकट पर सांसद रह चुके हैं। भाजपा ने सिन्हा के खिलाफ केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को टिकट दिया है।

अनुराग ठाकुर: भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर हिमाचल की हमीरपुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। वे 2008 से यहां से लगातार सांसद हैं। इस सीट से उनके पिता और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल भी तीन बार सांसद रह चुके हैं। हमीरपुर सीट भाजपा का गढ़ रही है। 1998 से लगातार यहां भाजपा का सांसद है।

सनी देओल: अभिनेता सनी देओल को भाजपा ने गुरदासपुर से टिकट दिया है। ये उनका पहला चुनाव है। कांग्रेस ने यहां से मौजूदा सांसद सुनील जाखड़ को टिकट दिया है। गुरदासपुर से अभिनेता विनोद खन्ना 4 बार सांसद रहे हैं। हालांकि, उनके निधन के बाद जाखड़ इस सीट से उपचुनाव जीत गए थे।

सुखबीर बादल: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के बेटे सुखबीर बादल फिरोजपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। बादल तीन बार फरीदकोट से भी सांसद रह चुके हैं। कांग्रेस ने इस बार फिरोजपुर से मौजूदा सांसद शेर सिंह घुबाया को टिकट दिया है। घुबाया यहां से अकाली दल के टिकट पर दो बार सांसद चुने जा चुके हैं। मार्च 2019 में घुबाया अकाली दल छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

हरसिमरत कौर बादल: सुखबीर सिंह बादल की पत्नी और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत बादल बठिंडा से मैदान में हैं। वे यहां से लगातार दो बार से सांसद हैं। कांग्रेस ने इस सीट से विधायक अमरिंदर सिंह राजा वडिंग को टिकट दिया है। वडिंग गिद्दड़बाहा से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए।

शिबू सोरेन: शिबू सोरेन अपनी सीट दुमका से चुनाव मैदान लड़ रहे हैं। 1980 से 2014 तक वे इस सीट से 8 बार सांसद रहे हैं। इस दौरान वे 2 बार चुनाव भी हारे। भाजपा ने शिबू के खिलाफ सुनील सोरेन को तीसरी बार टिकट दिया है। सुनील इससे पहले 2009 और 2014 में भी चुनाव हार चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)