Monday , April 22 2024
ताज़ा खबर
होम / लाइफ स्टाइल / 50 देशो के 2 लाख लोगों ने लॉक डाउन के दौरान सहज योग ऑनलाइन ध्यान अपनाया

50 देशो के 2 लाख लोगों ने लॉक डाउन के दौरान सहज योग ऑनलाइन ध्यान अपनाया

आम सभा, नई दिल्ली : कोविद-19 के संकमण की रोकथाम एवं नियंत्रण चल रहे लॉक डाउन के दौरान पिछले 20 दिनों में 50 देशों के 2 लाख से अधिक लोगों ने सहज योग मेडिटेशन के ऑन लाइन सत्र में सामूहिक ध्यान किया। ऑन लाइन मेडिटेशन का संचालन परम पूज्य श्री माताजी निर्मला देवी ट्रस्ट ( नेशनल ट्रस्ट) नई दिल्ली के यू ट्यूब चैनल “प्रतिष्ठान पुणे” के माध्यम से किया गया जिसे अब तक 12 लाख लोगों द्वारा 6.75 लाख घण्टों तक 2 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है। यू ट्यूब पर सहज योग मेडिटेशन के सत्रों को 12 लाख से अधिक इंप्रेशन प्राप्त हुए हैं।

जिसमें प्रत्येक दर्शक ने औसतन 8.64 सत्र में औसतन 23 मिनट अवलोकन किया। यह इंगित करता है कि लॉक डाउन के दौरान लोगों को चिन्ता से उबरने के लिये सहजयोग ध्यान पद्धति को बड़ी संख्या में अपनाया।” – यह जानकारी परम पूज्य श्री माताजी निर्मला देवी ट्रस्ट ( नेशनल ट्रस्ट) नई दिल्ली के वाइस चेयरमैन दिनेश राय ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी।

वाइस चेयरमैन दिनेश राय के अनुसार -” सोशल मीडिया एवं प्रौद्योगिकी का सकारात्मक उपयोग करते हुए विश्व के लोगों का एक साथ सामूहिकता में ध्यान करना उनके शारीरिक मानसिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के साथ साथ अपने भीतर ईश्वरीय शक्ति अनुभव कर उन्हे तनाव एवं चिन्ता से मुक्त रखने में भी सहायक होगा। एक दिलचस्प बात यह भी है कि यू ट्यूब पर सहज योग के ध्यान सत्र में दुनिया के 50 देशों के लोग लाभ उठा रहे हैं और यह दायरा बढ़ता ही जा रहा है।

फेसबुक पेज INDIA Sahajayoga पर 61000 लोगों ने 16 हजार घण्टे से अधिक समय तक ध्यान के वीडियो देखे । जबकि सहजयोगी स्वयं सेवकों द्वारा नये लोगों के लिये अलग से चलाए जा रहे सत्र में अब तक 1200 नये जिज्ञासु शामिल हुए है।

अलग अलग भाषाओं के लोगों तक सहज योग का लाभ पहुंचाने के लिये स्वयं सेवकों द्वारा विभिन्न स्थनीय भाषाओं में भी कुण्डलिनी जागृति एवं आत्मसाक्षात्कार के सत्र का निःशुल्क संचालन यू ट्यूब लाइव के साथ फेसबुक लाइव, मिक्सलर रेडियो आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से दिन में दो बार किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)