Wednesday , April 17 2024
ताज़ा खबर
होम / खेल / एचसीएल फाउंडेशन ने वंचित स्कूली छात्रों के लिए मल्टी-स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का कायापलट किया

एचसीएल फाउंडेशन ने वंचित स्कूली छात्रों के लिए मल्टी-स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का कायापलट किया

– उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर जिले में स्थित सरकारी स्कूलों तथा शहरी स्लम समुदाय से आने वाले छात्र-छात्राओं के लिए इतेदा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन किया गया

नोएडा : एचसीएलटेक के कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) एजेंडा को भारत में अमली जामा पहनाने वाले एचसीएल फाउंडेशन ने आज गौतम बुद्ध नगर (उत्तर प्रदेश) जिले के इतेदा गांव स्थित गवर्नमेंट अपर प्रायमरी स्कूल में इतेदा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन करने की घोषणा की।

एचसीएल फाउंडेशन ने गौतम बुद्ध नगर जिले के सरकारी स्कूलों और शहरी स्लम समुदायों से आने वाले छात्र-छात्राओं हेतु एक समर्पित स्थल तैयार करने के लिए इस मल्टी-स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का नवीनीकरण किया है। वंचित छात्रों को पेशेवर कोचिंग देना और उन्हें खेल-कूद के न्यायोचित अवसर प्रदान करना इसका उद्देश्य है। खेल परिसर को दो क्रिकेट नेट, एक बास्केटबॉल कोर्ट, एक वॉलीबॉल कोर्ट, एक फुटबॉल मैदान और लंबी कूद वाली दो पिट से लैस किया गया है। यहां एक उपकरण भंडार कक्ष, लड़कों और लड़कियों के लिए शौचालय तथा दर्शक स्टैंड भी मौजूद हैं।

“आधुनिक बुनियादी ढांचे के दम पर इस खेल परिसर का पुनर्विकास करने में दिया गया हमारा योगदान, खेल प्रतिभाओं को निखारने तथा टीम वर्क, दृढ़ संकल्प व सामुदायिक एकीकरण से जुड़े मूल्य और अधिक विकसित करने की दिशा में एचसीएल फाउंडेशन की प्रतिबद्धता दर्शाता है। इस प्रयास के माध्यम से, हम अपनी इस धारणा की तसदीक करते हैं कि खेलों के अंदर व्यक्तियों को गढ़ने और पीढ़ियों तक टिके रहने वाले जीवंत समाजों को प्रेरित करने की क्षमता होती है,”- कहना है एचसीएल फाउंडेशन की ग्लोबल सीएसआर उपाध्यक्ष डॉ. निधि पुंढीर का।

जमीनी स्तर से उपजी खेल प्रतिभाओं को पालने-पोसने और भावी पीढ़ियों के लिए एक गतिशील समाज को खाद-पानी देने की अपनी प्रतिबद्धता के तहत, एचसीएल फाउंडेशन ‘स्पोर्ट्स फॉर चेंज नेशनल्स’ का आयोजन करता है। प्रतिभागियों को एचसीएलफाउंडेशन के प्रमुख कार्यक्रमों ‘उदय’ और ‘समुदाय’ के जरिए चिह्नित किया जाता है तथा एचसीएल फाउंडेशन की विशेष पहल ‘स्पोर्ट्स फॉर चेंज’ उनका पूरा सहयोग करती है। स्पोर्ट्स फॉर चेंज नेशनल्स तक पहुंचने से पहले हर प्रतिभागी को कठोर प्रशिक्षण, गुण-दोष ढूंढ़ने वाले स्क्रीनिंग शिविरों और प्रचंड क्वालीफाइंग राउंड्स से गुजरना पड़ता है।