Monday , April 22 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / सीएम नीतीश पर भरी सभा में युवक ने फेंकी चप्पल, पुलिस ने किया गिरफ्तार

सीएम नीतीश पर भरी सभा में युवक ने फेंकी चप्पल, पुलिस ने किया गिरफ्तार

पटना  

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सुरक्षा में बड़ी चूक सामने आई है। मुख्यमंत्री पर भरी सभा मे चंदन तिवारी नामक लड़के ने चप्पल फेंका और नारेबाजी की। इस घटना के तुरत बाद जदयू नेताओं ने युवक की जमकर पिटाई की और सुरक्षाबलों ने तुरत सीएम को सुरक्षा घेरे में ले लिया।

पुलिस ने चंदन को गिरफ्तार कर लिया है और उसे गांधी मैदान थाने ले गई है। घटना 12 बजकर 30 मिनट की है जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जदयू के छात्र समागम कार्यक्रम में हिस्सा लेने बापू सभागार गए थे और जैसे ही वो मंच पर पहुंचे और कार्यक्रम का उद्घाटन करने वाले थे कि चंदन ने चप्पल मंच की तरफ फेंका और आरक्षण का विरोध करते हुए नारेबाजी की। चंदन औरंगाबाद का रहनेवाला है और वह खुद को सवर्ण सेना का सदस्य बता रहा है।

चंदन ने कहा कि आरक्षण की वजह से बिहार के युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही और ये सब नीतीश कुमार की वजह से हो रही है। हम बेरोजगार कहां जाएं? हमारे सामने नौकरी की समस्या है, नीतीश कुमार को आरक्षण खत्म कर देना चाहिए। उसने आक्रोशित होकर कहा कि उन्होंने गलती की है और इसकी वजह से मैंने एेसा किया है।

हालांकि चंदन सभा में जहां बैठा था वो जगह मंच से दूर था और उसके द्वारा उछाली गई चप्पल मंच तक नहीं पहुंच सकी। चप्पल मंच के ठीक नीचे गिरी। इस घटना के समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह सहित पहली बार किसी कार्यक्रम में प्रशांत किशोर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मौजूद थे।

इससे पहले भी एक बार मुख्यमंत्री जनता दरबार में एक युवक ने सीएम पर चप्पल फेंकी थी। उस घटना के वक्त नीतीश कुमार ने जो कुर्ता पहना था जानकारी के मुताबिक उन्होंने वह कुर्ता अबतक संभाल कर रखा है। ये दूसरी घटना है जब मुख्यमंत्री पर लोगों के बीच युवक ने चप्पल फेंकी हो।

बता दें कि बिहार में आरक्षण और एससी-एसटी एक्ट में हुए संशोधन के विरोध में सवर्ण समाज द्वारा विरोध-प्रदर्शन का दौर लगातार जारी है। लेकिन पहली बार किसी शख्स ने इस तरह भरी सभा में सुरक्षाकर्मियों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री को निशाना बनाया है।

हाल के दिनों में दलित एक्ट को लेकर पूरे बिहार में एनडीए नेताओं को जगह-जगह विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें काले झंडे दिखाए जा रहे हैं। लेकिन इस मामले में ये पहली बड़ी घटना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)