Wednesday , May 22 2024
ताज़ा खबर
होम / देश / झारखंड स्थापना दिवस: 11 सौ करोड़ की सौगात, 10 को झारखंड सम्मान, पारा शिक्षकों को लाठी

झारखंड स्थापना दिवस: 11 सौ करोड़ की सौगात, 10 को झारखंड सम्मान, पारा शिक्षकों को लाठी

रांची : 

झारखंड स्थापना दिवस पर राज्य सरकार ने रांची स्थित मोरहाबादी मैदान में एक विशाल कार्यक्रम का आयोजन किया. इस कार्यक्रम में झारखंड 10 लोगों को झारखंड सम्मान से सम्मानित किया गया. इस मौके पर रघुवर सकार ने कई घोषणाएं की पूरे झारखंड को खुले में शौच से मुक्त घोषित  किया गया. देवघर, लोहरदगा तथा हजारीबाग को पूर्ण विद्युतीकरण जिलों में घोषित किया गया.

शहरों में 20 घंटे बिजली और ग्रामीण क्षेत्रों में 16 घंटे बिजली, कृषि पखवाड़े का शुभारंभ किया गया जिसके तहत राज्य के सभी कृषि केंद्रों में फसल बीमा से संबंधित कार्य होंगे और मिट्टी की जांच की जायेगी. इस दौरान 1100 करोड़ की योजनाओं का उद्धाटन और शिलांन्यास किया गया.  इस मौके पर  प्लस टू शिक्षकों, राजस्व उप निरीक्षकों और अमीन  के पद पर 713 लोगों को  नियुक्ति पत्र दिया गया.  पशुधन गणना हेतू 1760 टैबलेट का वितरण भी किया गया.

राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने क्या कहा

इस मौके पर  राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू ने कहा, 18 सालों में झारखंड ने विकास के आयाम स्थापित किये हैं. आदिवासियों के लिए काम हुआ है, पलायन रोकने की कोशिश हुई.  मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, साथियों, झारखण्ड हम सबका है ,राज्य स्थापना दिवस का ये समारोह भी सवा तीन करोड़ झारखण्डवासियों के लिए खुशियों का पल है.

मैं आज के दिन इस अलग राज्य के लिए आंदोलन करने वालों को भी बधाई देना चाहता हूं। हमारी सरकार ने झारखण्ड आंदोलनकारियों को सम्मान देने हेतु पहली बार सम्मान पेंशन की शुरुआत की है. झारखण्ड आंदोलनकारियों को प्रतिमाह तीन से पांच हजार रुपये पेंशन दी जा रही है . आयोग द्वारा दूसरे आंदोलनकारियों को भी चिन्हित करने की भी प्रक्रिया जारी है.  मैं आंकड़ों की बात नहीं करुंगा लेकिन ये जरुर कहूंगा कि आज न सिर्फ देश बल्कि दुनियाभर में झारखण्ड की छवि बदल चुकी है.

मुख्यमंत्री ने कहा,  हमने झारखण्ड की मूलभूत समस्याएं सड़क, बिजली, पेयजल, शिक्षा एवं आधारभूत संरचना एवं बेरोजगारी की ओर ध्यान दिया है. प्रधानमंत्री जी ने आह्वान किया था कि 2019 तक पूरा देश खुले से शौच मुक्त हो जाए लेकिन सवा 3 करोड़ झारखण्डवासियों के लिए ये गर्व की बात है कि एक साल पहले ही हम अपनी झारखण्ड की बहनों सखी मंडल, जल सहिया और रानी मिस्त्री दीदीयों के कारण आज ODF घोषित हो गए.  तीन जिले देवघर,हजारीबाग और लोहरदगा पूर्ण रुप से विद्युतिकृत हो गए हैं । चार जिलों में हम पहले ही हर घर तक बिजली पहुंचा चुके हैं। दिसंबर 2018 तक राज्य का हर कोना बिजली से रोशन होगा। ये हमारा वादा है , ये हमारा संकल्प है.
पारा शिक्षकों पर पुलिस ने भांजी लाठी 
कार्यक्रम में बीच- बीच में हंगामा होता रहा, कई बार सिर्फ मंच पर ही नहीं कार्यक्रम में मौजूद सभी लोगों की नजरें पीछे चली जाती. पारा शिक्षकों कई जगहों पर रोके जाने के बाद भी कार्यक्रम स्थल तक पहुंच गये.
पारा शिक्षकों ने मोरहाबादी मैदान में लगे पंडाल के बाहर नारेबाजी की. पारा शिक्षकों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर लाठी भांजी. पारा शिक्षकों ने  भी पुलिस पर पथराव किया. कई पारा शिक्षक घायल हुए.  पारा शिक्षक इस कार्यक्रम में प्रवेश कर मुख्यमंत्री के सामने काला झंडा दिखाना चाहते थे.  15 हजार पारा शिक्षकों को गिरफ्तार किया गया.
खाली रही कई कुर्सियां 
मोरहाबादी मैदान में कार्यक्रम के दौरान मंच के नीचे मंत्रियों, विधायकों और सांसदों के लिए कुर्सिया रिजर्व की गयी थीं लेकिन इस दौरान कुर्सियां खाली रही समारोह में मुख्यमंत्री रघुवर दास के साथ केवल दो मंत्री जिनमें  अमर कुमार बाउरी और रामचन्द्र चंद्रवंशी शामिल थे. आमंत्रण पत्र में मुख्यमंत्री समेत राज्य सरकार में शामिल 10 मंत्रियों को सम्मानित अतिथि का दर्जा दिया गया था.  समारोह में विशिष्ट अतिथि के तौर पर शामिल  केंद्रीय मंत्री सुदर्शन भगत और जयंत सिन्हा भी मौजूद नहीं रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)