Monday , April 22 2024
ताज़ा खबर
होम / मध्य प्रदेश / राख बुधः एक-दूसरे के साथ संबंध मजबूत करने के लिए आध्यात्मिक नवीनीकरण का समय

राख बुधः एक-दूसरे के साथ संबंध मजबूत करने के लिए आध्यात्मिक नवीनीकरण का समय

भोपालः भोपाल के सभी गिरजाघरों में ऐश वेडनेसडे मनाया गया, जो ईसाईयों के लिये चालीस दिन के उपवास और प्रार्थना का गौरवषाली प्रारंभ है। ईसाइयों के जीवन में राख बुधवार एक महत्वपूर्ण दिन है। यह चालीसा काल का पहला दिन है। इस दिन प्रार्थना, उपवास और दान देने के माध्यम से सभी लोगों को ईष्वर की ओर झुकाव के लिए चर्च आमंत्रित करता है। इस बुधवार को कैथेड्रल और अन्य सभी चर्चों में पवित्र मिस्सा के दौरान, सभी लोगों के माथे पर राख को चिह्नित किया जाता है। इस दिन की राख को खजूर की शाखाओं से बनाया जाता है, जिनका उपयोग पाम संडे के दिन पिछले वर्ष किया गया था। यह दिन हमारी आध्यात्मिक नवीनीकरण प्रक्रिया का पहला दिन है जो 40 दिनों तक जारी रहता है क्योंकि यीशु ने बीहड़ में 40 दिन उपवास और प्रार्थना में बिताए थे। इस वर्ष ईस्टर 12 अप्रैल को पड़ेगा।

गिरजाघरों में राख के साथ माथे पर क्रूस का निशान लगाते हुए, पुरोहित शब्द को दोहराते हैं, “याद रखें कि आप मिट्टी हैं और मिटटी में मिल जाएंगे“ या “पश्चाताप करें और सुसमाचार में विश्वास करें।“ मसीहियों को याद दिलाते हुए कि – दफनाने और दाह संस्कार करने पर शव धूल-धूसरित हो जाएंगे और राख हो जाएंगे और कि हमारा जीवन-काल बहुत ही संक्षिप्त और अप्रत्याशित है ताकि हम ईष्वर के पास लौट सकें।

चालीसा काल शुरू होने पर, समुदाय के विभिन्न सदस्यों ने अपने संदेश साझा किएः “इस दिन मैं आर्चडायसिस के सभी ईसाईयों को एक सार्थक चालीसा काल की शुभकामनायें देना चाहता हूं ताकि सच्ची ईसाई भावना और सामाजिक परिवर्तनों को लाने के लिए उत्साह के साथ हमारे जीवन को नवीनीकृत किया जा सके। चालीसा अपने आप को, दूसरों और ईष्वर के साथ सामंजस्य बनाने के लिए पवित्र चर्च द्वारा दिया गया एक पवित्र समय है। – आर्चबिशप लियो काॅर्नेलियो एसवीडी

“चालीसा तीन रूपों में तपस्या का समय हैः प्रार्थना, उपवास और दूसरों को सामान बांटना ताकि हम ईष्वर, पड़ोसियों और प्रकृति के साथ संबंधों में गुणवत्तापूर्ण बदलाव ला सकें। यह हम सभी के लिए पवित्र और अनुग्रह से भरे दिनों के रूप में भी जाना जाता है। हमें इस दौरान चिंतन और मनन करना चाहिए और अपने आसपास के लोगों के जीवन में सुधार लाना चाहिए। ” – फा. मारिया स्टीफन, पी.आ.ओ “चालीसा काल की प्रथाओं से अधिक मेरा मानना है कि यह अनुग्रह और आध्यात्मिक नवीकरण का समय है। उपवास की सलाह दी जाती है, लेकिन राख बुधवार, शुक्रवार और गुड फ्राइडे को छोड़कर अन्य कोई कड़े नियम नहीं हैं। ” – डाॅ फा. शाजी ई, पास्टरल सेंटर
“मैं नकारात्मक विचारों और जानबूझकर अपनी बातचीत में अस्वस्थ्य भाषा छोड़ने के द्वारा उपवास कर रही हूं। मैं जरूरतमंद व्यक्ति को ढंूढकर पहचान करती हूं और उस व्यक्ति को मेरी बचत से मदद करती हूं। ” – श्रीमती सारू गेब्रियल, अजंपषन चर्च

“यह हमारे आध्यात्मिक विकास के लिए चर्च द्वारा हमारे लिए आवंटित समय है। इस अवधि के दौरान मैं परिवार में अकेले बुजुर्ग लोगों और बीमारों के साथ समय बिताने के लिए अतिरिक्त प्रयास करती हूं। मेरा मानना है कि यह समय की जरूरत है। ” – सिस्टर ओलिव डिसूजा, सेंट मैरी स्कूल।

“यह सामान्य रूप से समुदाय के निर्माण में उनकी भूमिका को प्रतिबिंबित करने के लिए ईसाईयों के लिए एक महान अवसर है“ – श्री सुधीर शर्मा, सेवा सदन

“मैं इस अवसर पर सभी ईसाइयों को क्रूस पर चढ़ाए गए यीशु मसीह से प्रचुर आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए शुभकामनाएं देता हूं“ – पास्टर सी.पी. सिंह, क्राइस्ट चर्च

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)