Thursday , July 2 2020
ताज़ा खबर
होम / देश / घाटी में पहली बार 4 महीने में चार प्रमुख आतंकी संगठनों के चीफ ढेर

घाटी में पहली बार 4 महीने में चार प्रमुख आतंकी संगठनों के चीफ ढेर

– आतंकवाद पर सेना का कड़ा प्रहार

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में रविवार को श्रीनगर के एक इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस एनकाउंटर में 3 आतंकी मारे गए। वहीं इससे पहले शोपियां के लकीरपुर इलाके में सेना के जवानों ने एक आतंकी को मार गिराया था। इस बारे में बात करते हुए कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने कहा, मैं सुरक्षा बलों को बधाई देता हूं, क्योंकि यह इतिहास में पहली बार है कि भारतीय सेना ने महज 4 महीने में 4 आतंकवादी संगठनों के प्रमुखों को ढेर किया है। कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने बताया कि 4 महीने में लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन और अंसार गजवत-उल हिंद के चीफ मारे गए। उन्होंने कहा कि अब तक इस साल 106 आतंकी मारे गए हैं। हमारा मकसद जम्मू-कश्मीर में शांति बहाली है। इसके लिए सुरक्षाबल लगातार ऑपरेशन चला रहे हैं और चलाते रहेंगे।

आईजी विजय कुमार ने बताया कि श्रीनगर में जिन आतंकवादियों को मारा गया है, वे लोकल टेररिस्ट थे। ऑपरेशन के दौरान वे छिपने के लिए एक मकान में दाखिल हो गए थे। हमने यहां के कुछ लोगों से कहा कि वे आतंकवादियों को समर्पण करने के लिए कहें। लेकिन, आतंकवादियों ने उनकी बात मानने की बजाय ग्रेनेड से सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। इसके बाद उन्हें एनकाउंटर में मार गिराया गया। आईजी विजय कुमार ने बताया कि कठुआ में जिस ड्रोन को बीएसएफ ने मार गिराया था, वह अली भाई के नाम पर था। वह जैश का आतंकवादी है और साउथ कश्मीर में एक्टिव है। इसमें एम4 राइफल थी। हमने रिकॉर्ड खंगाले तो पुलवामा के एक आतंकवादी फुरकान का नाम आया है। हो सकता है कि यह एम4 राइफल फुरकान के लिए ही पाकिस्तानी ड्रोन से भेजी गई हों।

आईजी ने आगे बताया कि कुलगाम में जैश-ए-मोहम्मद के पाकिस्तानी आतंकी के कब्जे से एक एके -47, एक एम 4 कार्बाइन और एक पिस्तौल बरामद की गई। उन्होंने कहा कि, यह भी देखा गया है कि जैश के आतंकी एम4 राइफल का इस्तेमाल करते हैं। बता दें कि शनिवार को जम्मू-कश्मीर के कठुआ के पनसर इलाके में बीएसएफ ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को शूट किया था। पाकिस्तान की तरफ से इस ड्रोन के जरिए आतंकियों को हथियार भेजे गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)